गुलाबी शहर जयपुर के बारे में – Pink city Jaipur

गुलाबी शहर जयपुर

गुलाबी शहर जयपुर – Pink city Jaipur

भले ही राजस्थान में ज्यादा हिलस्टेशन न हो लेकिन यह राज्य पर्यटन में बिल्कुल भी पीछे नही है। राजस्थान का पर्यटन बड़े बड़े देशोंकी बराबरी करता है।इसका कारण यहां का इतिहास और संस्कृति है।

राजस्थान का पर्यटन बढ़ाने में गुलाबी शहर जयपुर का अहम रोल है। जयपुर शहर गुलाबी शहर के नाम से मशहूर है।यह सिर्फ राजस्थान ही नही बल्कि भारत के टॉप पर्यटन स्थलों में शामिल है।यहां हर साल काफी तादाद में विदेशी पर्यटक आते है।शहर का प्रशासन जयपुर नगर निगम और जयपुर विकास के हाथों में है।यह दोनों शहर के विकास के लिए जिम्मेदार है।इस शहर का महत्व इसलिए है क्योंकि इस शहर में कुछ अदभुत और लोकप्रिय पर्यटन स्थल है।सुंदर किलों, बड़े बड़े महल,एम्बर का किला, हवा महल, भव्य बिरला मंदिर आदि प्राचीन कला के अदभुत नमूने है।

जानिये राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन और बेस्ट हनीमून जगह माउंट आबू की जानकारी

राजस्थान में प्रसिद्ध हाथी के खेल का मार्च में होली के दिन आयोजन किया जाता है।इसकी शुरुआत डांस से होती है।हाथी को बहुत ही सुंदर तरीके से सजाया जाता है।यह एक पवित्र फेस्टिवल माना जाता है।

भौगोलिक जानकारी – Geographical Location of Jaipur

“गुलाबी शहर जयपुर” भारत के राज्य राजस्थान की राजधानी का शहर है।जयपुर शहर समुद्र साथ से 432 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।यह शहर अर्ध रेगिस्तान में बसा हुआ है।इसकी लोकप्रियता बढ़ने का एक कारण यह भी है कि यह शहर तीन और से अरावली पर्वतोसे घिरा हुआ है।

गुलाबी शहर जयपुर का इतिहास – History of Jaipur

गुलाबी शहर जयपुर की स्थापना 1728 में महाराज द्वितीय जय सिंह ने की थी।शहर बनाने के लिए बंगाल के वास्तुकार भट्टाचार्या की मदद ली गयी थी।इसकी खासियत यह है कि यह भारत का पहला ऐसा शहर है जिसे वास्तुशात्र के अनुसार बनाया गया।
कहा जाता है कि राजा जय सिंह खगोलशास्त्र में रुचि रखेते थे और उन्होंने शहर बनाते वक्त 9 अंक को ज्यादा महत्व दिया जो 9 ग्रहों के प्रतीक होते है।

कैसे पहुंचे जयपुर – How to reach at Jaipur

जयपुर पहुंचना बहुत ही आसान है।
हवाई मार्ग से-जयपुर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है।आप किसी भी बड़े शहर से सीधा जयपुर की फ्लाइट ले सकते है।

रेलवे– रेल मार्ग से आना चाहते हो तो भारत के सबसे व्यस्त स्टेशनों में से जयपुर स्टेशन एक है।भारत के कई बड़े शाहोरोंसे यहां हर रोज ट्रेने आती है।

सड़क मार्ग – भारत के कई बड़े शाहोरोंसे जयपुर जुड़ा हुआ है।आप आसानी से जयपुर आ सकते है।

जयपुर का मौसम – Weather of Jaipur

जयपुर शहर लगबग रेगिस्तान में होने के कारण यहां मौसम ज्यादातर गरम ही रहता है।जयपुर में तीन मुख्य मौसम है।गर्मी का मौसम,ठंड का मौसम और बारिश का मौसम।

गर्मी का मौसम यहां मार्च से शुरू होता है जो जुलाई तक रहता है।गर्मी के मौसम में अधिकतम तापमान 45 डिग्री तक चला जाता है।अगर आप गर्मियोमे यात्रा करने की सोच रहे है तो हल्के रंग के सूती कपड़े ले ।

बारिश की बात करे तो जयपुर में ज्यादा बारिश नही होती है।बारिश खत्म होने के बाद फिर थोड़े दिन के लिए मौसम गर्म हो जाता है।

गुलाबी शहर जयपुर

जानिये आखिर कैसा थी सिंधु सभ्यता और धोलावीरा के बारे में – हड़प्पा संस्कृति

ऑक्टोबर से मार्च तक यहां सर्दी का मौसम रहता है।इन दिनों में रात को तापमान 5 डिग्री तक भी चला जाता है।अगर आप सर्दी में यात्रा करने की सोच रहे है तो ऊनि कपड़े साथ मे ले।
वैसे यह गुलाबी शहर की यात्रा का यही सबसे अच्छा मौसम होता है।

गुलाबी शहर जयपुर के दर्शनीय स्थल – Places to visit in Jaipur

एम्बर किला – Amber Fort

इस किले की खासियत यह है कि यह किला संगमरमर और लाल पत्थर से बना हुआ है।इसीके साथ यहां की माओथा झील से इन किले की खूबसूरती में चार चांद लग जाते है।
ऐसा कहा जाता है कि यह किला कछवाहा जनजाति की राजधानी हुआ करता था।

नाहरगढ़ – Nahargarh Fort

यह खूबसूरत किला भी जयपुर के संस्थापक राजा जय सिंह ने बनाया था।इसकी खासियत है कि इसका निर्माण अवालियोंके ऊपर किया है।

सिटी पैलेस – City Palace

यह गुलाबी शहर जयपुर का एक प्रमुख स्थल है।यह एक निवास है जो राजस्थानी और मुग़लोंकी कला का एक अद्भुत नमूना है।यह किला पुराने शहर में बसता है।इसका भी निर्माण संगमरमर के पत्थरों से किया है।इसीसे इसके प्रवेशद्वार पर दो हाथीयों की प्रतिमा बनाई गयी है।ऐसा लगता है मानो ये प्रतिमाये किले की रक्षा करने के लिहे ही बनाई हो।यहां आपको गाइड भी मिल जाएंगे।
इस किले में बहुत ही बड़ा संग्रहालय है जहां   बहुत ही पुरानी तलवारे ,पोशाख रखे गए है जो राजपूत राजाओं और मुग़लोंके काल मे इस्तेमाल होते थे।

जंतर मंतर – Jantar Mantar

दिल्ली की तरह जयपुर के जंतर मंतर मैदान नही है।यह एक खूबसूरत पत्थर की वेगशाला है जो सिटी पैलेस से कुछ ही दूर है।इसका निर्माण भी जय सिंह ने किया था।इसे बनाने के लिए काफी हद तक विज्ञान का सहारा लिया गया था।यहां रामयंत्र है जिसका उपयोग ऊंचाई नापने के लिए किया जाता है।

हवा महल – Hawa mahal

यह राजपूतों की सबसे सुंदर निशानी है।इसका निर्माण 1799 में किया था।इसकी वजह से काफी हद तक यह गुलाबी शहर को जाना जाता है।इसकी रचना इस तरह की गई थी कि राजघरानो की महिलाओं को नगर का दैनंदिन जीवन और जुलूस दिखाई दे। एक और खासियत यह है कि इस महल से बाहर का तो दिखता है लेकिन बाहर से अंदर का कुछ नही दिखता।

जयगढ़ किला – Jaigarh Fort

इस किले को बहुत ही सुंदर नाम दिया गया है जो कि हिल ऑफ ईगल्स है।यह किला एक ऊंची चोटी पर बनाया गया है।इस किले को भी भारत के सबसे अच्छे किलो में जाना जाता है।

जयपुर की दीवार – Wall of Jaipur

इस दीवार में सात गेट बनाये है।यह एक अद्भुत नमूना है।इस दीवार ने जयपुर को घेरा हुआ है।इसका भी निर्माण महाराज जय सिंह ने किया था।यह दीवार छह फीट ऊंची और 3 फ़ीट चौड़ी है।

जयपुर झु – Jaipur zoo park

इस झु में दो भाग है।एक भाग में जानवरों को रखा है तो दुसरे भाग में पक्षियों को।यहां लगबग 550 से भी ज्यादा जानवर और 50 से ज्यादा पक्षियोंकी प्रजातियां है।

रामगढ़ झील – Ramgarh lake

एक ऊंचा बांध बनाकर इस झील का निर्माण किया गया है।यह झील शहर से 32 किमी दूर है।बारिश के मौसम में यह झील भर जाती है और यहां का नजारा देखते ही बनता है।

अन्य पर्यटन स्थल

बैराठ
सामोद
बगरू
सांभर
सांगानेर
माधोगढ़
पुराना शहर
आमेर और शिला माता मंदिर
गैटोर
जैन मन्दिर
गुड़िया घर
बिड़ला तारामंडल
राम निवास गार्डन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *